छह आरोपी गिरफ्तार व लूटी गई राशि 1,01500 रु. बरामद
वारदात का केवल 24 घंटे मे किया खुलासा आस-पास के दस स्थानो के सीसीटीवी फुटेज खंगाले

जमनालाल यादव पत्रकार
छबड़ा। छबड़ा में दिन-दहाड़े एक व्यापारी से हुई लूट के आरोप में पुलिस ने छह आरोपियो को गिरफ्तार कर लूटी गई राशि में से 1,01500 रु. भी बरामद करने में पुलिस ने सफलता हासिल कर ली हैं। पुलिस ने इस वारदात का महज चौबीस घंटे मे ही पर्दाफाश किया।

पुलिस उपाधीक्षक परमालसिंह ने बताया कि छबड़ा निवासी चन्द्रप्रकाश जैन (65) पुत्र जानकीलाल जाति महाजन ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि वह गत 14 नवम्बर को एक किराने की दुकान की उधारी की वसूली करने बाजार में गया हुआ था। जहाँ से वसूली के करीब 2.50-3.00 लाख रूपए की वसूली कर एक बैग में रखकर आ रहा था कि सायंकाल एक ज्वैलर्स की दुकान के सामने एक युवक जिसकी उम्र लगभग 20-25 वर्ष थी। जो कि हाथ में एक लकड़ी लेकर आया और उसके बायें हाथ पर लकड़ी से हमला कर उसके हाथ से 2.50-3.00 लाख रूपयो से भरे बैग का छीनकर भाग गया। बैग में इसके अलावा बैंक की चैक ड़ायरी सहित अन्य व्यापारिक महत्वपूर्ण दस्तावेज भी रखे हुए थे। इस मामले को उन्होने गंभीरता से लेते हुए तत्परता दिखाते हुए पुलिस उपाधीक्षक परमालसिंह, सर्किल इंस्पेक्टर ताराचंद मय जाप्ता के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर आस-पास की नाकाबंदी की गई। वही इस लूट की गंभीर घटना को वर्कआउट करने हेतु उनके नेतृत्व में सीआई ताराचंद के साथ अजीत सिंह हैड़ कांस्टेबल, राजेशसिंह कानिस्टेबल, नवीन कानिस्टेबल, महेश कानिस्टेबल, सुजीत कानिस्टेबल, नरेंद्रसिंह, मदनलाल कानिस्टेबल की विशेष टीम गठित की कर अज्ञात बदमाशो की सरगर्मी से तलाश शुरू की गई थी। इस घटना का पर्दाफाश करने के लिए कार्रवाई के तहत घटनास्थल के आस-पास के लगभग 10 स्थानो के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए व एक दर्जन संदिग्ध लोगों व संपति संबंधी अपराधो मे चालानशुदा आरोपियो से सघन पूछताछ की गई व मुखबीर मामूर कर आपराधिक सूचना तंत्र डवलप किया जाकर घटना मे शामिल मुख्य आरोपी की पहचान सड़िया उर्फ नितेश वाल्मिकी एवं दीपक वाल्मिकी के रुप मे हुई। इस पर दोनो आरोपियो को गिरफ्तार कर सरगर्मी से की गई पूछताछ में नितेश (19) उर्फ सड़िया पुत्र बबलू वाल्मिकी, दीपक पुत्र रामभरोस वाल्मिकी के साथ सावन (19) पुत्र रामदयाल वाल्मिकी निवासीगण अलीगंज को गिरफ्तार कर सघन पूछताछ की गई। पूछताछ में सामने आया कि उपरोक्त तीन युवको के अलावा भी तीन युवको में सोनू (20) पुत्र राजू वाल्मिकी, मोनू (19) पुत्र सुगन वाल्मिकी, देवलाल (20) पुत्र रेवड़ीलाल वाल्मिकी निवासीगण जैन धर्मशाला के पास शिव कॉलोनी भी उक्त घटना के षड्यन्त्र में शामिल होना पाया जाने पर कार्रवाई करते हुए तीनो को डिटेन कर गहन पूछताछ कर जुर्म कबूलने पर उन्हे गिरफ्तार कर उनके कब्जे से लूटी गई राशि 1,01500 रु. बरामद भी कर ली गई है। गिरफ्तार आरोपियो से पूछताछ जारी हैं तथा इसके अलावा अन्य चोरी, लूट की वारदाते खुलने की भी संभावना है।

लूट की घटना से पूर्व रेकी की गई- गिरफ्तार आरोपियों से की गई पूछताछ में खुलासा हुआ कि सड़िया उर्फ नितेश वाल्मिकी व सावन वाल्मिकी दोनों का एक दोस्त लोकेश धाकड़ जो कि फरियादी की किराने की दुकान पर काफी समय से कार्य करता था। जिसके पास नितेश व सावन वाल्मिकी जाते थे। तब से उन्हें मालूम हुआ कि व्यापारी चन्द्रप्रकाश जैन व्यापारियों से ब्याज पर रुपए लेन-देन का कार्य करता हैं एवं प्रतिदिन कलेक्शन का भी कार्य करता हैं। बदमाशो ने कुछ समय तक व्यापारी चन्द्रप्रकाश जैन की दिनचर्या पर नजर रखी एवं उपरोक्त छह बदमाशों ने देवलाल के मकान पर घटना को अंजाम देने का षड्यंत्र रचा एवं योजनानुसार सावन वाल्मिकी घटनास्थल से दूर खड़ा होकर उक्त व्यापारी पर नजर रखने लगा तथा दीपक और नितेश उर्फ सड़िया वाल्मिकी दोनों मौका पाकर एक ज्वैलर्स की दुकान के आगे खड़े व्यापारी चन्द्रप्रकाश जैन के हाथ पर लकड़ी से हमला कर दिया जिससे उसके हाथ से बेग छूट गया जिसे सड़िया उर्फ नितेश लेकर भाग गया। दोनों ही अलग-अलग दिशाओं में पहाड़ी की ओर भागे तथा पूर्व से ही देवलाल के मकान पर बैठे सोनू वाल्मिकी, मोनू वाल्मिकी व देवलाल वाल्मिकी के पास नितेश, दीपक व सावन पहुंच गए और देर रात तक घर मे ही छुपकर बैठे रहे। पहाड़ी पर बदमाशो की तलाश कर रही पुलिस पर नजर रखते हुए देवलाल के मकान पर ही लूटी गई राशि का बंटवारा भी कर लिया।