छबडा। छबड़ा क्षेत्र की ग्राम पंचायत कडैयाहाट में तालुका विधिक सेवा समिति द्वारा एक दिवसीय बाल विवाह प्रतिषेध शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें ग्रामीणो एवं बालक-बालिकाओ को बाल-विवाह से होने वाली हानियां एवं दुष्परिणामो से अवगत कराया।

पीएलवी संजय ओझा ने बताया तालुका विधिक सेवा समिति द्वारा क्षेत्र की ग्राम पंचायत कडैयाहाट में एक दिवसीय बाल विवाह प्रतिषेध शिविर का आयोजन किया गया जिसमें ग्रामीणो एवं बालक बालिकाओ को बाल विवाह करने से होने वाली हानियों एवं उसके दुष्परिणामों के बारे बताया। उन्होने यह भी बताया कि इस प्रकार के कार्यक्रमो मे भाग लेने वाले सभी व्यक्ति दोषी होते हैं और उनको दो वर्ष तक का कारावास या एक लाख रूपयो तक का जुर्माना भी हो सकता हैं। इसलिए बाल विवाह न करे और न ही किसी को करने दे। इसी के साथ बालक बालिकाओ को बाल संरक्षण अधिनियम की जानकारियां भी दी गई एवं राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं में नालसा, तस्करी और वाणिज्यिकी यौन शोषण, अंसगठित क्षेत्र के श्रमिक, बाल संरक्षण, गरीबी उन्मूलन, नशा उन्मूलन आदि के अधिकारो के संरक्षण, दिव्यांग व्यक्तियो के अधिकारो आदि के बारे मे जानकारियां दी गई। इस मौके पर दिव्या पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य गोकुल प्रसाद गुर्जर, शिवकुमार लोधा पंचायत सहायक कडैयाहाट सहित दर्जनो ग्रामीणो ने भाग लिया।