परिजनो से दूर हुई विवाहिता को सुरक्षित पहुंचाया घर
लापता विवाहिता गांव बैरवार जिला टिकमगढ मप्र की निवासी, दस माह के बच्चे सहित बस स्टैंड पर मिली थी

छबड़ा, छबड़ा पुलिस ने लापता महिला व उसके दस माह के मासूम बच्चे को घर पहुंचाने के साथ ही मानवता की मिसाल पेश की।

सर्किल इंस्पेक्टर ताराचंद ने बताया कि गत दिनो सूचना मिली कि कस्बे के बस स्टेंड पर एक महिला दस माह के मासूम बच्चे माह के बच्चे सहित बैठकर विलाप कर रही थी। इस पर पुलिस इस महिला को थाने मे लाकर बातचीत की। पूछताछ पर पुलिस को उसका नाम रेशमा (19) पुत्री रमेश जाति आदिवासी रावत निवासी बैरवार थाना जतारा जिला टिकमगढ मप्र बताया जो की मप्र के जिला गुगना से अपने ससुराल डबरा जिला राजगढ़ जाने के लिए भूलवश छबडा की बस में बैठ गई थी। इस पर पुलिस मे संबंधित थाने मे संपर्क किया। तथा उसके परिवारजनो से सम्पर्क करने के बावजूद उसे लेने की लिए नही आए। इस पर महिला को सखी केन्द्र महिला अधिकारिता बारां में भिजवा दिया था। महिला को उसके परिजनो के पास भेजने के लिए छबड़ा पुलिस दल जिसमे एक महिला पुलिस कर्मी भी शामिल थी। यह दल छबड़ा थाना से रवाना होकर महिला सखी केन्द्र महिला अधिकारिता बारां पहुंचे जहां लापता महिला रेशमा को साथ लेकर थाना जतारा जिला टीकमगढ मप्र पहुंचे जहां पर महिला रेशमा की मां रामबाई पत्नि स्व. रमेश आदिवासी को सरपंच कुसुम की मौजूदगी में उसकी मां को संभलाया गया। इस पर महिला की मां की ऑखों में आंसू झलक पडे़। छबड़ा पुलिस को दुआएं देकर धन्यवाद के साथ आभार व्यक्त किया।