बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक आईटमो की मांग बढ़ी

छबड़ा। दीपावली पर्व जैसे-जैसे नजदीक आता जा रहा हैं वैसे-वैसे बाजारो मे भी चहल-पहल बढ़ती ही जा रही हैं, दीपावली का सुरूर और मस्ती हर तरफ छाने लगी हैं। साथ ही दुकानदारो ने विभिन्न प्रकार के उपहार और ईनामी ऑफरो से ग्राहको लुभाने की तैयारी भी कर ली है। आभूषणो से लेकर मूर्ति, गिफ्ट, कपड़े, पूजा सामग्री की दुकाने भी सज चुकी हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दीपावली नजदीक आने के साथ ही बाजारो मे रौनक नजर आने लग चुकी हैं। इसके चलते दुकानदारो दुकानदारो ने विभिन्न प्रकार के उपहार और ईनामी ऑफरो से ग्राहको लुभाने की तैयारी भी कर ली है। दीपावली त्योहार की श्रृंखला आज सोमवार से शुरू हो रही हैं। भैया दूज और गोवर्धन पूजन तक पांच दिवसीय त्योहार की श्रृंखला चलती हैं। धनतेरस के दिन धातु की नई वस्तु खरीदना शुभ माना जाता हैं। इसके चलते बाजरों मे व्यापारियों ने अपनी तैयारियों को भी अंतिम रूप दे दिया हैं। दुकानो को आकर्षक रूप से सजाने के साथ-साथ स्टॉफ भी बढ़ा लिया हैं। ताकि दुकान पर से ग्राहको को निराश होकर वापस नही लौटना पड़े। आभूषणो की दुकानो पर लक्ष्मी, गणेश की मूर्ति, चांदी के विभिन्न प्रकार के सिक्के सहित आइटम कई प्रकार के अलग-अलग वजन मे भी आ गए हैं।

व्यापारियों ने धनतेरस के त्यौहार पर ग्राहको को आकर्षित करने के लिए नए-नए डिजाईनो के बर्तनो से दुकानो को भी सजा लिया हैं। इन दिनो बाजारो मे दुकानो के बाहर गिफ्ट व गृह साज सज्जा के सजावटी सामाज देखने को मिल रहे हैं। बाजार में देशी दिपक से लेकर इलेक्ट्रॉनिक दीपक, तोरण, बंदरवार, गिफ्ट, ग्राहको को लुभाने के लिए गिफ्ट पैंकिग की विभिन्न वैरायटी, इलेक्ट्रॉनिक गिफ्ट आइटम आदि दुकानो पर बड़ी से बड़ी रेंज मे मौजूद हैं। घरेलू आश्यकता से लेकर पूजा-पाठ तक की सामग्री बाजार मे मौजूद हैं। कपड़े की दुकानो, ज्वैलर्स, गिफ्ट आइटम की दुकानो, दुपहिया वाहन शौरूमों सहित अन्य दुकानो पर भीड़ उमड़ रही हैं।

बाजारो मे बढ़ी फैंसी दीपको की मांगः- हिंदू धर्म मे दीपावली पर्व सभी त्यौहारो मे से सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, जिसे दीपो का त्यौहार कहते हैं। पिछले तीन-चार वर्षो से लोगो ने दीपावली पर्व का मिट्टी के दीपको से मुंह मोड़ना प्रारंभ कर दिया हैं। मिट्टी के दीपको का प्रयोग केवल शगुन के तौर पर किया जाने लगा हैं। बाजारो में प्लास्टिक एवं इलेक्ट्रॉनिक आईटमो की बढ़ती मांग के सामने मिट्टी के दीपको की मांग घटती ही जा रही हैं।