जातिगत समीकरण व कांग्रेस पृष्ठभूमि परिवार से जुडे़ है, कांग्रेस तलाश रही हैं युवा चेहरा

छबड़ा:- छबड़ा-छीपाबड़ौद विधानसभा क्षेत्र मे गुर्जर जातिगण समीकरण एवं लंर्बे अर्से से पारिवारिक कांग्रेस पृष्ठभूमि से जुड़े जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष दिग्विजयसिंह ने इस विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी से अपनी प्रबल दावेदारी जताई हैं।
आगामी होने जा रहे वर्ष 2018 में विधानसभा चुनाव में लगभग दो लाख पंद्रह हजार मतदाता हैं जिनमें से बीस हजार गुर्जर, एससी लगभग 45 हजार, एसटी 30 हजार, 22 हजार लोधा, 20 हजार धाकड़, 13 हजार अल्पसंख्यक, 12 हजार ब्राह्मण जातियो के मतदाता है। इनके भी अलावा अन्य जातियों के मतदाता है। इस विधानसभा क्षेत्र में गाँव 410 व 253 पौलिंग मतदान केंद्र हैं।

इस विधानसभा क्षेत्र में लगभग गुर्जर, एससी, एसटी, लोधा व धाकड़ बाहुल्य समाज के लोग निवास कर रहे हैं। गत 2003 में हुए विधानसभा चुनाव में गुर्जर (गाडरी) समाज से कांग्रेस पार्टी ने मानसिंह धनोरिया (पूर्व प्रधान) को प्रत्याक्षी बनाया था जो कि मामूली अंतर केवल 1300 मतो से भाजपा के प्रतापसिंह सिंघवी से पराजित हुए थे। वर्ष 1999 से 2003 में राजस्थान में कांग्रेस पार्टी सत्ता मे रही। आगामी वर्ष 2018 में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी से इस विधान सभा क्षे़त्र लगभग एक दर्जन दावेदार कांग्रेस से अपनी दावेदारी जता रहे हैं। वर्तमान में कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेताओ द्वारा चुनावी अभियान चला रखा हैं। शीर्ष नेताओं का कहना हैं कि प्रत्याक्षी चयन कि प्रक्रिया बड़ी सटीक व साफ-सुथरी छवि व योग्य तथा जीताऊ उम्मीदवार को पार्टी प्रत्याक्षी बनायेगी। व पार्टी संगठन को लगातार मजबूत करते आ रहे व सक्रिय योग्य युवाओं को उम्मीदवार बनाने की कवायद चल रही हैं। इस विधानसभा क्षेत्र से जिला कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष एडवोकेट दिग्विजय सिंह गुर्जर ने अपनी प्रबल दावेदारी जता रहे हैं। जो कि एक युवा चेहरा है वे लगातार पार्टी में सक्रिय होकर संगठन में विभिन्न पदो पर रहकर व कार्यकर्ता के तौर पर पार्टी का लगातार कार्य करते आ रहे है। इनके परिवार में ये कांग्रेस पार्टी में तीसरी पीढ़ी में सक्रिय कार्यकर्ता है। जिनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि में इनके दादाजी स्व. मानसिंह सात वर्ष तक सरपंच पद पर एवं 13 वर्षों तक पंचायत समिति में प्रधान के पद पर रहकर ग्रामीण जनता मे उन्होने अपनी अलग पहचान बनाई। सिंह के बडे़ ताऊ कमल सिंह, ताई गुलाब बाई, छोटे ताऊ कैलाश नारायण व छोटा भाई वर्षो तक लगातार सरपंच, प्रधान व पंचायत समिति सदस्य के पद पर आसीन रहे। संगठन में परिवार से ताऊ युथ अध्यक्ष, छबड़ा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष के पदो पर वर्षो तक रहकर पार्टी व संगठन को मजबूत करने का कार्य किया। सिंह वर्तमान में पेशे से एक वकील हैं तथा वे लगातार 14 वर्षों से छबड़ा अदालत में वकालत का कार्य कर रहे है। एडवोकेट दिग्विजय सिंह गुर्जर युवक कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष व वर्तमान में नगर कांग्रेस अध्यक्ष व जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष के पद पर है। जो कि वर्ष 2003 से कांग्रेस के सक्रिय, निष्ठावन कार्यकर्ताओ मे से एक है, तथा कांग्रेस पार्टी द्वारा जनहित के लिए आयोजित की गई बैठके, धरना-प्रदर्शन में भाग ले चुके हैं। गत वर्षो में छबड़ा नगर पालिका के स्थानीय निकाय चुनाव हो या पंचायतराज चुनाव हो जिसमे पार्टी सिम्बल पर प्रत्याक्षी का चयन का चयन करने मे भी इनकी अहम भागीदारी रही। गत 2008 व 2013 मे हुए विधानसभा चुना, वर्ष 2009 व 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में इनके द्वारा चुनावी रणनीति बनाकर चुनाव संचालन का कार्य मे भी यह सक्रिय रहे। एडवोकेट सिंह द्वारा वर्ष 2013 में भी उन्होने औपचारिकता के तौर पर दावेदारी पेश कि गई थी किंतु इस बार वर्ष 2018 में पार्टी संगठन में लगातार सक्रियता से कार्य करने व आमजन से सीधा जुड़ाव होने के चलते उन्होने मजबूती से विधानसभा चुनाव मे प्रबल दावेदारी जताई हैं। पार्टी ने इस बार उन्हे चुनाव लड़ने का अवसर दिया तो वे इस बार पार्टी का अच्छा चेहरा बनकर उभर सकते हैं। क्षेत्र मे उनके दादाजी स्व. मानसिंह वर्ष 1977 मे विधायक पद हेतु छबड़ा से भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. भैरोसिंह शेखावत के विरूद्ध कांग्रेस पार्टी से उम्मीदवार के तौर पर चिहिंत किए गए थे व कांग्रेस पार्टी ने प्रबल प्रत्याक्षी भी माना था। परंतु स्वास्थ्य सही नहीं होने के कारण वह कांग्रेस पार्टी से प्रत्याक्षी नहीं बन पाए और उनका वर्ष 1979 में निधन हो गया था। गुर्जर जातिगण समीकरण एवं लंर्बे अर्से से पारिवारिक कांग्रेस पृष्ठभूमि से जुड़े जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष दिग्विजयसिंह ने इस विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी से अपनी प्रबल दावेदारी जताई हैं।