रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) विधानसभा स्तरीय मास्टर ट्रेनर चुनाव घोषणा से प्रारम्भ होकर मतगणना तक की सम्पूर्ण प्रक्रिया के बारे में गहन एवं सटीक जानकारी रखे, ताकि मतदान के कार्य से जुड़े सभी अधिकारियों एवं मतदान दलों को गहन प्रशिक्षण दे सके। प्रशिक्षण की गुणवत्ता एवं प्रभावशीलता को अधिक से अधिक बढ़ाकर हम किसी भी गलती से बच सकेंगे। बुधवार को जिला ग्रामीण विकास सभागार में आयोजित एएलएमटी की कार्यशाला को संबोधित करते हुए जिला कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह ने बताया कि हर बार की तुलना में इस बार का चुनाव अलग एवं भिन्न है। इस बार एम-2 की बजाय एम-3 प्रकार की ईवीएम तो प्रयोग की ही जा रही है, पर वृहत रूप में पहली बार अत्यन्त संवेदनशील वीवीपैट मशीन का भी प्रयोग किया जायेगा। इस मशीन के प्रयोग के बारे में सभी को पूरी जानकारी होनी चाहिए ताकि मतदान केन्द्रों पर काम करने वाले कार्मिक अच्छे से तैयार हो सके। इन दिनों सोशल मीडिया पर कई बार दुष्प्रचार हो जाता है, हमें चुनाव प्रक्रिया से संबंधित हर जानकारी को पुख्ता एवं पारदर्शी तरीके से मतदान कर्मियों तक पहुँचाना है।

एएलएमटी भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाईट पर जाकर भी नवीनतम जानकारी हासिल कर सकते है। वाट्सअप गु्रपों के माध्यम से भी अपनी जिज्ञासाओं एवं जानकारियों के बारे में विचार विमर्श कर सकते है। इन सभी प्रयासों से हम निष्पक्ष एवं प्रभावी मतदान कार्य सम्पन्न करवा सकते हैं। प्रशिक्षण के प्रभारी अधिकारी एवं एडीएम (भू.अ.) चन्द्रभान सिंह भाटी ने विभिन्न विषयों पर एएलएमटी से पीपीटी के माध्यम से प्रस्तुति करवाई और उनकी जिज्ञासाओं का समाधान किया।
उप जिला निर्वाचन अधिकारी दीपेन्द्र सिंह राठौड़ ने कार्यशाला के उद्देश्य को स्पष्ट करते हुए कहा कि एएलएमटी विषय के बारे में पुरी तरह से तैयार रहे। उन्होंने वनरेबल मेपिंग, आदर्श आचार सहिंता के बारे में विभिन्न प्रश्न पुछ कर विषय को स्पष्ट किया। कार्यशाला का संचालन एडीईओ शांतिलाल सुथार ने किया। कार्यशाला में यूआईटी सचिव सी.डी. चारण व जिला रोजगार अधिकारी आलोक शुक्ला उपस्थित थे।