कोटा – कोटा संभाग में अतिव्रष्टि से उड़द, सोयाबीन और तिल की फसलों में हुए भारी खराबे के नुकसान की पूर्ति हेतु अखिल भारतीय किसान सभा बीमा क्लेम और मुआवजे की मांग के लिए आंदोलन के साथ साथ किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा की जानकारी देकर जागरूक भी कर रही है इसी क्रम में आज अखिल भारतीय किसान सभा तहसील कमेटी दीगोद के नेतृत्व में जिम्मेदार बीमा कंपनी टाटा AIG से नुकसान की भरपाई हेतु किसानों ने नष्ट फसलों के बीमा दावे बैंक ऑफ़ बड़ोदा की बूढ़ादीत शाखा में पेश किये किसान सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष दुलीचंद बोरदा ने बताया कि आज तक हाड़ोती के किसानों को कभी भी बीमा कंपनियों ने प्रीमियम लेने के बावजूद उनके फसल खराबे का भुगतान नहीं किया है बैंक,कृषि विभाग, प्रशाशनिक अधिकारी एवं जन प्रतिनिधियों ने भी किसानों के बीमा क्लेम को गम्भीरता से नहीं लिया है और न ही किसानों को उनके फसल बीमा संबंधित अधिकारों और जानकारी से अवगत करवाया गया है जिसके चलते बीमा कंपनियों कि लूट जारी है बूढ़ादीत में आज किसानों को बीमा के दावे पेश करवाने के साथ किसानों को सचेत करते हुए कहा कि फसल बीमा कम्पनी वही खेत देखेगी जिसने व्यक्तिगत नुकशान की शिकायत दर्ज करवाई है शिकायत दर्ज नही होने पर क्रॉप कटिंग के आधार पर बीमा क्लेम मिलेगा। क्योकि काफी बड़ा नुकसान फसल कटाई के समय और बाद बरसात से हुआ है उसकी व्यक्तिगत रूप से बैंक या बीमा या कृषि विभाग के अधिकारी को शिकायत दर्ज करवायें। बीमा दावे पेश किये जाने के अवसर पर किसान सभा के तहसील अध्यक्ष हरीश मीणा, चतुर्भुज पहाड़िया, पूरणमल, रामगोप, कुंजबिहारी , मुकेश कुमार , बाबू खां , चौथमल नरसिंघपुरा, चतुर्भुज,पहाड़िया,हेमराज नागर, महावीर नागर, रामलाल नागर, गंगाराम नागर, रामकरण, किशन जियाहेड़ी, मोहनलाल, कृष्णगोपाल,रामस्वरूप, रामचरण, सुखपाल, सत्यनारायण, अरविन्द , दिनेश,आदि कार्यकर्ता शामिल थे