कोटा – जनवादी लेखक संघ राजस्थान के 22 व 23 सितंबर 2018 को आयोजित दो दिवसीय सातवें प्रदेश सम्मेलन में कोटा के साहित्यकारों ने भी भागीदारी की। जलेस के जिला समन्वयक नागेंद्र कुमावत ने बताया कि साहित्य, संस्कृति और लोकतंत्र के मुद्दों पर अलवर में आयोजित प्रदेश सम्मेलन में कोटा से 7 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने शिरकत की जिनमें वरिष्ठ कवि और साहित्यकार अम्बिकादत्त, योगेंद्र मणि, हंसराज चौधरी,मदनमोहन सजल, रफीकउर रहमान, विजय राघव और नागेंद्र कुमावत शामिल हुए। सम्मेलन के सत्र साहित्य और संस्कृति के समक्ष चुनोतियाँ, कविता पाठ , हमारा समय , समाज और कहानी और लोक वादन ख्याल लोक संस्कृति के सत्रों की चर्चा में हाड़ौती के साहित्यक और सांस्कृतिक संदर्भों के साथ जोड़ते हुए चर्चाओं में प्रमुख भूमिका निभाई । प्रदेश से 200 के लगभग कवि/लेखक/ संस्कृतिकर्मी शामिल हुए। सम्मेलन का उद्घाटन प्रमुख इतिहासकार प्रोफेसर हरबंस मुखिया के भाषण और जाने माने पत्रकार उर्मिलेश के विश्लेषणपरक वक्तव्य के साथ हुआ