रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत स्वच्छता की निरन्तरता (ओडीएफ-एस), माहवारी स्वच्छता प्रबन्धन व पोषण पर जिला स्तरीय एक दिवसीय आमुखीकरण कार्यशाला का आयोजन जिला परिषद् द्वारा मंगलवार को नगरपरिषद् के ऑडिटोरियम में किया गया।
जिला कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अंकित कुमार सिंह, चित्तौड़गढ़ प्रधान प्रवीण सिंह राठौड़, भूपालसागर प्रधान सोहनलाल भील, जिला परिषद् सदस्य ज्योत्सना चौधरी सहित जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने माँ सरस्वती की छवि के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर कार्यशाला का शुभारम्भ किया।

जिला कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह ने कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी अभियान की सफलता के लिए कार्यशाला एक महत्वपूर्ण कड़ी होती है। उन्होने जनप्रतिनिधिगण व अधिकारियों से कहा कि आमजन में स्वच्छता प्रबन्धन में जागरूकता लाने के लिए भरसक प्रयास करें। उन्होंने कहा कि सही जज्बा हो तो हर क्षेत्र में सफलता अवश्य मिलती है। निष्ठा से ही किसी अभियान को सफल बना सकते है। जिला कलेक्टर ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य व रोजगार के क्षेत्रों में कार्य करने वाला जिला ही आगे बढ़ेगा।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी अंकित कुमार सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत स्वच्छता की निरन्तरता हेतु जिले की जनता को जागरूक करना हमारा उद्देश्य है। स्वच्छता की निरन्तरता (ओडीएफ-एस) हेतु ब्लॉक स्तर पर भी कार्यशालाएं आयोजित होगी। उन्होंने आमुखीकरण कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए स्वागत उद्बोधन दिया।
कार्यशाला में प्रधान प्रवीण सिंह राठौड़ ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत स्वच्छता की निरन्तरता (ओडीएफ-एस) को बनाए रखना है। उन्होंने कहा कि जिला हमेशा हर क्षेत्र में अव्वल रहा है।
कार्यशाला के तकनीकी सत्र में केआरसी जयपुर अरविन्द बोहरा ने स्वच्छता की निरन्तरता हेतु शौच मुक्ति के स्थायित्व करण के दस सूत्रों की जानकारी देते हुए साफ पीने के पानी, गन्दे पानी की निकासी, स्वच्छ शौचालय, कुड़े करकट का निपटान, घरेलू एवं खान पान की स्वच्छता, व्यक्तिगत स्वच्छता एवं गांव की स्वच्छता के बारे में विस्तार से बताया। संचालन डॉ. कनक जैन व किरण आचार्य ने किया। कार्यशाला में जिला स्तरीय अधिकारी, जिला परिषद् के अधिकारी, कर्मचारी, प्रधानगण, जिला परिषद् सदस्य, सरपंच, मीडियाकर्मी, ग्राम सचिव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित थे।