रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की’ के जयघोष के साथ सोमवार को हजारों श्रद्धालुओं ने श्री चारभुजा नाथ मंदिर में ठाकुर जी के दर्शन किए। रावतभाटा नगर में सोमवार को कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व हर्षोल्लास के साथ कृष्ण कन्हैया का जन्मदिन पंरपरागत तरीके से उत्साह के साथ मनाया गया।
रावतभाटा नगर में जन्माष्टमी के पर्व पर सोमवार को चारभुजा झालरबावड़ी में हजारों श्रद्धालुओं ने श्री चारभुजा नाथ ठाकुर जी के दर्शन किए। रावतभाटा के प्रसिद्ध चारभुजा मंदिर में भगवान श्री चारभुजा नाथ का सोने के आभूषणों से श्रृंगार किया गया। साथ में चांदी के छत्र, सोने की बंसी व कवच से भगवान को सजाया गया। श्री चारभुजा नाथ का सोमवार सुबह 8 बजे से 10 बजे तक भगवान शंकर, लड्डूगोपाल का रूद्धाभिषेक किया गया। सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक महिला कीर्तन का आयोजन हुआ। रात 8 बजे से 12 बजे तक महिला कीर्तन और विशेष झांकी सजाई गई। रात 12 बजे धुमधाम के साथ श्री कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर 51 किलो पंचामृत से अभिषेक किया गया। रात 12:10 पर महाआरती एंव 12:20 बजे श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरण किया गया। कृष्ण जन्मोत्सव के समय नगर के समस्त मंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता लग गया।

मेले में नगर एंव ग्रामीण अंचल से आए हुए करीब 50 हजार से 60 हजार के बीच श्रद्धालुओं ने श्री चारभुजा नाथ ठाकुर जी के दर्शन किए। इस मौके पर रात्रि 12 बजे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर भी भीड़ रही। सोमवार मध्य रात 12 बजे ही वासुदेव श्रीकृष्ण के जयकारे गूंज उठे और भक्तगण झूमने लगे। तथा भगवान श्रीकृष्ण को पंचामृत से स्नान कराया गया। सोमवार देररात भगवान श्रीकृष्ण ठाकुर जी के जन्म के पश्चात प्रसाद वितरण शुरू की गई। इन दर्शनों का आनन्द दर्शनार्थी ने भी लिए तथा सुरक्षा के लिए कई जवानों को तैनात किए गया। कान्हा के जन्मोत्सव के लिए मन्दिरों में विशेष तैयारियां की गई। चारभुजा झालरबावड़ी मन्दिर में हजारों श्रद्धालुओं ने श्री चारभुजा नाथ जी के दर्शन किए। मन्दिर को दुल्हन की तरह जगमगाया गया। इसके अलावा अन्य मन्दिरों में भी विशेष आयोजन किए गए। रावतभाटा नगर व आसपास के इलाकों में जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में मन्दिरों को विशेष रूप से सजाया गया। इस अवसर पर पुलिस प्रशासन द्वारा खास तौर से सुरक्षा के इंतजाम किए हुए थें। दर्शन के लिए बेरिकेडिंग लगाकर महिलाओं और पुरूषों की अलग-अलग कतारें लगाई गई। जिसे बारी-बारी से दर्शनों के लिए खोला गया। चारभुजा में भगवान श्री चारभुजा नाथ जी के मन्दिर में सोमवार को दिन व रात भर भजन-कीर्तन की धूम रही। क्षेत्र के मन्दिरों पर आकर्षक विद्युत सज्जा कर पुष्पों से सजाया गया। पूरें मन्दिरों में फूल की झांकियां के साथ सजावट की गई। वहीं चारभुजा जी में लगें मेले में भी अच्छी भीड़ रही। उधर रावतभाटा बाजार स्थित श्री अनोखेराज हनुमान मन्दिर में रात्रि को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के अवसर पर भारी भीड़ रहीं। जंहा एक तरफ श्री चारभुजा नाथ भगवान के दर्शन के लिए एंव झूले को झुलाने के लिए लोगो में उत्साह देखा गया। वहीं भगवान श्री कृष्ण जी के जन्माष्टमी के इस अवसर पर लोगो ने भगवान के दर्शन कर प्रसाद ग्रहण कर व्रत खोला। तथा लोगो ने भगवान के जयघोष के नारे भी लगाए। चारभुजा झालरबावडी मंदिर पर इस मौके पर भजन-कीर्तन, पूजन भी किया गया। महिलाओं एंव श्रद्धालुओं ने भी भगवान के जन्मोत्सव पर झूला-झूलकर एंव दर्शन कर मन्नते मांगी। तथा रात्रि 12 बजे विशेष महाआरती हुई। मंदिरों में मध्यरात्रि तक ढोलक-मंजीरों की खनक पर देवकी नंदन के भजन-कीर्तन से गूंजने लगा। मेले में पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ-साथ होम गार्ड आदि की सेवायें भी ली गई है। मेले मेें दर्शन के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा मंदिर में बीच में रस्सी डालकर दोनों तरफ से श्रद्धालुओं के आने जाने के लिए सुगम व्यवस्था कर रखी थी। तथा जन्माष्टमी के मेले में कृष्ण जन्मोत्सव को रावतभाटा थानाधिकारी चौथमल वर्मा द्वारा समय-समय पर गश्त की जा रही थी। तथा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।
उपनगरीय चारभुजा झालरबावड़ी मन्दिर में लगने वाला तीन दिवसीय जन्माष्टमी महोत्सव के अवसर पर चारभुजा नाथ, श्री अनोखेराज हनुमान मन्दिर व, मानव मन्दिर, श्री मुक्तेश्वर महादेव जी मन्दिर, एन.टी.सी. शिव मन्दिर, श्री रामटेकरी मन्दिर, श्री संकट मोचन हनुमान मन्दिर फेज वन अणु शक्ति, श्री महापालेश्वर मंदिर, श्री गणेश मन्दिर, चारण बस्ती श्री राधा कृष्ण मन्दिर, भैसरोड़गढ स्थित श्री संकट मोचन हनुमान मन्दिर, पाडाझर महादेव मन्दिर, बाड़ौलिया महादेव मन्दिर एंव क्षेत्र के कई राधा कृष्ण जी में ठाकुर जी की मूर्ति व मन्दिरों को सजाया। इसके अलावा भजन संध्या आयोजित की तथा मन्दिर की विद्युत सज्जा से सजावट, विशेष पूजा, अर्चना, कीर्तन-भजन का आयोजन किया। इस अवसर पर रावतभाटा उपखण्ड क्षेत्र व आस-पास के जिलों के हाड़ौती, मालवा एंव मेवाड़ के हजारो लोगों ने ठाकुर जी के दर्शन का लाभ उठाया। कृष्ण कन्हैया का जन्मदिन पंरपरागत तरीके से उत्साह के साथ मनाया गया।