रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) जिला निर्वाचन अधिकारी इन्द्रजीत सिंह ने कहा कि मतदान करना 18 वर्ष से अधिक आयु के प्रत्येक भारतीय नागरिक का अधिकार है और दिव्यांगजन को अपने इस अधिकार के लिए सजग रहते हुए उन्हें अपनी मतदाता सूची मे नाम जुडवाना है तभी वे मतदान कर सकगे।
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं जिला कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह ने उक्त निर्देश शुक्रवार को जिला प्रशासन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग एवं मेवाड विकलांग सेवा संस्थान द्वारा पंचायत समिति सभागार में आयोजित दिव्यांग मतदाता जागरूकता कार्यशाला में विचार व्यक्त किए।

उन्होनें जिले के सभी 18 वर्ष से अधिक आयु के दिव्यांगजन को जिले में हुए पूर्व के सर्वे मे चिन्हित हुए है उन सभी के नाम मतदाता सूची मे 31 अगस्त 2018 तक जोडने हेतु सभी रिटर्निग अधिकारियों को निर्देशित किया और प्रत्येक बूथ के बी.एल.ओ के माध्यम से उनके बूथ क्षैत्र दिव्यांग मतदाताओं के नाम मतदाता सूची मे जुडना मे एवं सभी दिव्यांग मतदाताओ की सूची भी अपने पास तैयार रखे ताकि उन्हें मतदान तिथि से अवगत करवाकर उनकी मतदान करवाया जा सके।
जिला कलेक्टर ने उक्त कार्यशाला मे सम्मिलित हुए दिव्यांगजनो से मतदान प्रक्रिया के दौरान आने वाली समस्यां एवं उनके सुझाव भी दिव्यांगो से प्राप्त किए।
कार्यशाला मे जिला पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार चौधरी ने कहा कि मतदान लोकतंत्र का उत्सव है और इसकी सफलता के लिए इस कार्यक्रम मे सबकी सहभागिता होना आवश्यक है। जिले मे दिव्यांगजन मतदाता जागरूकता कार्यशाला के आयोजनो से दिव्यांगजन की सहभागिता बनेगी जो लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत है।

जिले के स्वीप नोडल प्रभारी अधिकारी एवं जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अंकित कुमार सिंह ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा इस बार के चुनाव मे दिव्यांगजन के मतदान को विशेष स्थान प्रदान करने के उदेश्य से सबल अभियान का संचालन किया जा रहा है जिसके तहत जिले का प्रत्येक मतदाता मतदान कर सके ऐसा प्रयास किया जा रहा है। उनके लिए जिले के सभी रिटर्निग अधिकारी (उपखण्ड अधिकारी) एवं निर्वाचन से जुडे सभी अधिकारियों को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए है साथ ही दिव्यांगजनो के लिए सुगम्य एवं सहज मतदान सुविधा उपलब्ध कराया जावे। विधानसभा आम चुनाव-2018 मे ईवीएम/वीवीपैट की कार्यप्रणाली को आम नागरिकों मे जागरूकता पैदा करने के संबंध मे भी जानकारी प्रदान की गई जिसमे बताया गया कि सभी जिलों मे विधानसभा आम चुनाव के दौरान प्रथम बार मतदाताओं द्वारा ईवीएम के साथ वीवीपैट के साथ मतदान किया जाएगा।
उप जिला निर्वाचन अधिकारी दीपेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि जिले के सभी मतदान केन्द्रो पर दिव्यांगो हेतु आवश्कतानुसार रैम्प की व्यवस्था के साथ-साथ उनके बैठने की व्यवस्था, पेयजल की व्यवस्था हेतु सभी रिटर्निग अधिकारियों एव बी.एल.ओ को आवश्यक निर्देश जारी किए जा चुके है ताकि मतदान दिवस को जिले मे समस्त मतदान केन्द्रो पर दिव्यांगजन को बाधारहित वातावरण उपलब्ध कराया जा सके।
रिटर्निग अधिकारी चित्तौडगढ़ एवं उपखण्ड अधिकारी सुरेश खटीक ने कहा कि उनके निर्वाचन क्षैत्र के दिव्यांग जो 18 वर्ष से अधिक आयु का है उनके मतदाता सूची मे नाम जोडे जा रहे है। साथ ही समस्त मतदान केन्द्रों को भी दिव्यांग फ्रेंडली बनाया जाने के साथ साथ मतदान दिवस को दिव्यांगो को प्राथमिकता से मतदान करवाने का प्रयास किया जाएगा।
दिव्यांग मतदाता जागरूकता कार्यशाला के प्रभारी अधिकारी सहायक निदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ओमप्रकाश तोषनीवाल ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि जिले के प्रत्येक विधानसभा क्षैत्र में इस प्रकार की दिव्यांग मतदाता जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा ताकि जिले के अधिकाधिक दिव्यांगजन को मतदान प्रक्रिया एवं मतदान करने संबंधी जानकारी से उनको अवगत कराया जा सके साथ ही चलन निःशक्तता, श्रवण बाधित, दृष्टि बाधित, मानसिक विभन्द्रता आदि समस्त श्रेणियों के दिव्यांगो को मतदान हेतुु आने वाली समस्याओ का समाधान कराते हुए उन्हे प्रेरित कर उनके अधिकायिक मतदान का प्रयास किया जाएगा। साथ ही पावर पॉइन्ट प्रजेन्टेशन कार्यशाला मे मेवाड विकलांग सेवा संस्थान के सरंक्षक श्री गंगाधर सोलंकी ने दिव्यांगजन को प्राथमिकता से मतदान कराने की बात कही। अध्यक्ष दिलीप सिंह के मतदाता सूचियों मे दिव्यांगो के नाम जुडवाने एवं मतदान करने के इस अभियान मे पूर्ण सहयोग हेतु आश्वस्त किया।
दिव्यांग पूरण मल शर्मा, नीरल लड्डा, दृष्टि बाधित सुशील जैन, प्रेमप्रकाश गौड कट्स संस्था के कमलेश शर्मा, सुश्री किरण गोस्वामी, प्रिति तनेजा, मोह. साकीर हुसैन आदि ने विचार व्यक्त किए। कार्यशाला मे प्रशिक्षु आर.ए.एस. बिन्दुबाला राजावत, तहसीलदार मोहन सिंह, विकास अधिकारी धनसिंह राठौड, सामाजिक सुरक्षा अधिकारी चन्द्रप्रकाश जीनगर, ललिता खींची सर्वशिक्षा अभियान के हेमेन्द्र सोनी, सावंलिया विकलांग विद्यालय के ओमप्रकाश जोशी एवं लगभग 150 से अधिक दिव्यांगजन, विशेष शिक्षक आदि उपस्थित थे।