टी.बी क्लीनिक में बैठक लेते हुए सीएमएचओ डॉ लवानिया

कोटा – निक्षय पोषण योजना के तहत टी.बी. मरीजों को उपचार की अवधि के दौरान हर माह पांच सौ रूपये पोषण भत्ते के रूप में दिये जा रहें है। सोमवार को जेके लोन परिसर स्थित टी.बी. क्लिनिक में आयोजित मासिक बैठक में सीएमएचओ डॉ. आरके लवानिया ने आरएनटीसीपी कार्यक्रम की समीक्षा की। उन्होने बताया कि सरकार की ओर से 1 अप्रेल 2018 से चलाई जा रही निक्षय पोषण योजना के तहत् मरीजों को दी जाने वाली राशि डी.बी.टी. के माध्यम से सीधा मरीज के बैंक खाते में ट्रांसफर की जा रही है। साथ ही जिन टी.बी मरीजों को बैंक खाते और आधार कार्ड के अभाव में योजना का लाभ नही मिल पा रहा है, उन्हे अपना आधार कार्ड एवं बैंक की पासबुक की फोटो प्रतिलिपी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जमा कराना अनिवार्य होगा। इसके लिए आशा सहयोगिनियों को भी पांबद किया गया है कि वे मरीज के बैंक खाते की पूरी जानकारी एंव आधार कार्ड का विवरण संकलित कर जिला स्तर पर भिजवाएं। आशा सहयोगिनियां मरीजों को बैंक खाता खुलवाने एवं आधार कार्ड बनवाने के लिए भी प्रेरित करेंगी। सीएमएचओ. ने आर.एन.टी.सी.पी. कर्मचारियों को भी टी.बी. मरिजों के आधार एवं बैंक डिटेल्स को निक्षय पोर्टल पर अपडेट करने के निर्देश दिए। जिससे कि टी.बी. मरिजों को निक्षय पोषण योजना में समय पर भुगतान प्राप्त हो सके ।
मीटिंग में जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. आर.सी. मीना, बी.सी.एम.ओ. सांगोद डॉ. यादवेन्द्र शर्मा, टीबी क्लिीनिक के डॉ. एस.एन मीना, डॉ. चेतन कुमार शर्मा, डॉ. अंजना मिश्रा, डॉ. रश्मि गर्ग समेत आर.एन.टी.सी.पी. का स्टॉफ मौजूद था।