रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) पढ़ने लिखने की उम्र की 7 वर्षीय मासुम जिदंगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है। 7 वर्षीय मासुम बालिका की दोनों किडनी खराब हो चुकी है। गरीब पिता के पास लाडली बेटी की जान बचाने के लिए पैसे नहीं है। 7वर्षीय बेटी की किडनियां खराब हो जाने से राजस्थान परमाणु बिजलीघर इकाई 5वीं, 6वीं में ऑपरेशन प्लांट में ठेकेदार के पास कार्यरत ठेका श्रमिक मुकेश औदिच्य ने प्रशासन, भामाशाहों एवं शहर के लोगों से मदद की गुहार लगाई है। राजस्थान परमाणु बिजलीघर की इकाई 5 व 6 में ऑपरेशन प्लांट में ठेकेदार के पास कार्यरत ठेका श्रमिक मुकेश औदिच्य की 7 वर्षीय पुत्री दिया औदिच्य की दोनों किडनियां खराब हो गई है। इस समय मासुम जिंदगी और मौत के बीच की जंग लड़ रही है। चिकित्सकों ने जिंदगी बचाने के लिये किडनी ट्रान्सप्लान्ट करने की सलाह दी है लेकिन इस परिवार के पास इतना रुपया नहीं है कि इलाज का खर्च उठा सके। मुकेश औदिच्य चारभुजा तेजाजी चौक पर रहते है। इसके लिए गुजरात के नडियाद के मूलजीभाई पटेल किडनी अस्पताल में दिखाया गया। चिकित्सकों के अनुसार किडनी ट्रांसप्लांट जरूरी बताया, लेकिन ठेका श्रमिक के पास इतनी राशि नहीं है। लोगों से उन्होंने मदद की गुहार की है।
मुकेश औदिच्य ने बताया कि अभी उदयपुर पैसेपिक मेडिकल कॉलेज में भर्ती है। 15 से 20 लाख रुपए की राशि का खर्च बताया जा रहा है। मुकेश औदिच्य का बैंक एकाउंट नंबर आईसीआईसीआई 159801500584 बताया है। मोबाइल नंबर 8290694521, 7340450037 पर संपर्क किया जा सकता है। मुकेश ने बताया कि वह अपनी पत्नी के ऑपरेशन के लिए गए थे, बेटी की हाइट नहीं बढ़ रही थी तो ऐसे ही डॉक्टर को दिखाया तो जांच में पता लगा कि दिया की दोनों किडनी खराब है। इसलिए हाइट नहीं बढ़ रही है। अचानक पता लगा तो इलाज में जुट गए, लेकिन अभी किडनी नहीं मिली है। किडनी का ग्रुप ओ पॉजीटिव है। माता, पिता की किडनी की जांच कराई, लेकिन मैच नहीं हुई। वहीं समाजसेवियों के द्वारा भी सोशल मीडिया के माध्यम से अब लोगों से 7वर्षीय मासुम की किडनियों के उपचार के लिए आर्थिक मदद करने का आग्रह किया जा रहा है।