केक काट कर और पोस्ट कार्ड लिखकर दिया अरुण जेठली को धन्यवाद

कोटा– सरकार द्वारा सेनेटरी नैपकिन्स से जी एस टी हटाने के उपलक्ष्य में सोसाइटी हैज ईव इंटरनेशनल चैरिटेबल ट्रस्ट एवं वीमेन वेलफेयर आर्गेनाइजेशन ऑफ वर्ल्ड ट्रस्टों के द्वारा किशोर सागर तालाब की पाल पर लगान से मुक्ति का जश्न केक काट कर मनाया गया एवं एक बार पुनः वित्त मंत्री जी को धन्यवाद पोस्ट कार्ड लिखे गए। ट्रस्ट की अध्यक्ष निधि प्रजापति ने बताया गत वर्ष एक जुलाई से लागू होने वाले जी एस टी टैक्स के अंतर्गत सेनेटरी नैपकिन पर 12% का टैक्स लगाया जाना प्रस्तावित था तथा वह लागू भी हुआ जिसके विरोध में कोटा से विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस से सोसाइटी हैज ईव इंटरनेशनल ट्रस्ट एवं वुमन वेलफेयर आर्गेनाईजेशन ऑफ वर्ल्ड के द्वारा वृहद पोस्ट कार्ड लेखन अभियान शुरू किया गया था क्योंकि सरकार ने सेनेटरी नैपकिन जो कि एक महिला के लिए आधारभूत आवश्यकता है उस पर उसे लग्जिरी और मनोरंजन दायक वस्तुओं की श्रेणी में डाल कर उस पर टैक्स लगाया था। हमारे पोस्ट कार्ड अभियान के अंतर्गत विभिन्न महाविद्यालय, विद्यालय, महिला समूहों , हॉस्टलों में देश व्यापी अभियान चलाया गया और जून माह के मध्य में ही 3000 पोस्टकार्ड कोटा राजस्थान से, एवं मध्य प्रदेश, बिहार, जम्मू कश्मीर, तमिल नाडु, कर्नाटका, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश आदि राज्यों से भी हजारों पोस्टकार्ड, पत्र भारत सरकार के वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली , महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय की मंत्री मेनका गांधी, प्रेजिडेंट श्री राम नाथ कोविंद, प्राइम मिनिस्टर श्री नरेंद्र मोदी जी के नाम पर भेजे गए। वीमेन वेलफेयर आर्गेनाइजेशन ऑफ वर्ल्ड की अध्यक्ष नीतू मेहता ने बताया कि लड़कियों को मासिक धर्म की पूरी जानकारी नहीं होती और इसी वजह से उन्हें बहुत समस्या और दुविधा का सामना करना पड़ता है । पी आर ओ सोनी नेहलानी ने बताया की भारत में 20% लडकियाँ पीरियड्स शुरू होने पर स्कूल जाना छोड़ देती है क्योंकि उनके पास सेनेटरी नैपकिन खरीदने के पैसे नहीं होते, विद्यालयों के शौचालय अत्यधिक गंदे रहते है, वे ऐसे गंदे कपड़े का प्रयोग करती हैं जो स्वच्छ व संक्रमणरहित नहीं होता जिसकी वजह से वैजाइनल फंगल इनफैक्शन, सर्वाइकल कैंसर, उट्रेस कैंसर होने की संभावना रहती है। ऐसे में टैक्स का निर्णय बहुत ही गैर जिम्मेदारी वाला था। इस अवसर संस्था की शोभा कँवर, हनी सक्सेना, सुमन महेश्वरी, रेशमा परवीन, रीना खंडेलवाल, आभा भटनागर, नेहरु युवा केंद्र संगठन के विजय निगम उपस्थित रहे।