रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) राजस्थान परमाणु बिजलीघर के प्रशिक्षण अधीक्षक एवं प्रवक्ता सुनील कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि माही बांसवाड़ा परमाणु बिजलीघर से प्रभावित 51 ग्रामीणों ने गुरूवार को राजस्थान परमाणु बिजलीघर का भ्रमण कराया गया।
इस दौरान नाभिकीय प्रशिक्षण केन्द्र में ग्रामीणों के लिए एक प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया गया। जिसमें राजस्थान परमाणु बिजलीघर के स्थल निदेशक विजय कुमार जैन ने ग्रामीणों की जिज्ञासाओं का समुचित समाधान किया। उन्होंने बताया कि परमाणु ऊर्जा पूर्णतः स्वच्छ एवं सुरक्षित है। परमाणु बिजलीघर की परिधि के निकट रहने वालों लोगांे तथा पर्यावरण को बिजलीघर से किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता है। उन्होंने बताया कि पिछली दो-तीन पीढ़ियों से लोग रावतभाटा में निवास कर रहे हैं एवं उन्हें परमाणु बिजलीघर से किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ा है। पूरे प्रजेंटेशन के दौरान वैज्ञानिक अधिकारी/ई पंकज उकावत ने ग्रामीणों की विकिरण संबंधी भ्रांतियों तथा अन्य जिज्ञासाओं का विश्लेषण वागड़ी भाषा में किया। इसके साथ ही सामाजिक सरोकार के चेयरमेन पी.एन. प्रसाद, संजय माथुर एवं आर.के. वशिष्ठ ने व्याख्यान प्रस्तुत किए।
सामाजिक सरोकार के चेयरमेन पी.एन. प्रसाद ने बताया कि राजस्थान परमाणु बिजलीघर द्वारा सामाजिक सरोकार के तहत कई कार्य किए गए हैं। उन्होंने उन सभी कार्यों से ग्रामीणों को अवगत कराया। ग्रामीणों ने रावतभाटा साइट का अवलोकन भी किया।
इससे पूर्व ग्रामीणों ने एनपीसीआईएल द्वारा सीएसआर के तहत चलाए जा रहे उड़ान कार्यक्रम में विज़िट की, जिसमें दिव्यांग बच्चों ने समूह नृत्य तथा अन्य प्रस्तुतियों से ग्रामीणों का मन मोह लिया। ग्रामीणों को एनपीसीआईएल द्वारा सीएसआर के तहत बनाए गए सीनियर सैकेण्डरी स्कूल, आरपीएस, रावतभाटा, एनएफसी परियोजना तथा राजस्थान परमाणु विद्युत परियोजना की निर्माणाधीन इकाई 7 व 8 परियोजना का भ्रमण भी करवाया गया। राजस्थान परमाणु बिजलीघर के चारों ओर की हरियाली और स्वच्छता देखकर ग्रामीण बहुत प्रसन्न हुए। तथा उन्होंने अपने फीडबैक में माही बांसवाड़ा परमाणु बिजलीघर को लेकर काफी उत्साह व्यक्त करते हुए सामाजिक सरोकार के कार्यों की काफी सराहना की।