रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) रावतभाटा उपखंड क्षेत्र में सक्रिय हुए मानसून ने किसानों के चेहरों पर रंगत ला दी है। चंबल नदी पर बने तीन प्रमुख बांधो में लगातार पानी की आवक जारी है। रावतभाटा उपखंड क्षेत्र के नगर एवं ग्रामीण अंचल में बुधवार से जारी बारिश का दौर गुरूवार को दिनभर जारी रहा। बादलों की तेज गडगडाहट व आकाशीय बिजली के साथ तेज झमाझम बारिश शुरू हुई। क्षेत्र में तेज गडगडाहट व आकाशीय बिजली के साथ तेज झमाझम वर्षा का दौर शुरू हुआ जो समाचार लिखे जाने तक जारी थी। तथा आसमान में छाई काली घटाओं से अंधेरा हो गया और बारिश दौर जारी है। बरसात के इस दौर में क्षेत्र के अधिकांश इलाके तर हो गए। चारभुजा झालरबावड़ी मौसम विभाग वैधशाला प्रभारी ज्योति मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि गुरूवार को अधिकतम तापमान 26.2 और न्यूनतम तापमान 24.0 डिग्री दर्ज किया गया। तथा 76.8 एमएम वर्षा दर्ज की गई है।

जलसंसाधन सिंचाई विभाग के नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार चंबल नदी पर बने तीन प्रमुख बांधो में लगातार पानी की आवक जारी है। रावतभाटा के राणाप्रताप सागर बांध का जलस्तर पूर्ण भराव क्षमता 1157.50 के मुकाबले 1140.03 फीट है। राजस्थान के सबसे बड़ा बांध राणाप्रताप सागर बांध केचमेंट में भारी वर्षा होने के कारण केचमेंट में पानी की लगातार आवक बढ़ रही हैं। चंबल नदी पर बने 3 बंाधों में पानी की खासी आवक हो रही हैं। राणाप्रताप सागर बांध में 25 हजार 266 क्यूसेक पानी की आवक हो रही हैं। पिछले 24 घंटे में 62.60 एमएम वर्षा दर्ज की गई। 1 जून से अब तक यंहा 377.50 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है।
मध्यप्रदेश मालवा में हो रही वर्षा का पानी की आवक से गांधीसागर बांध की भराव क्षमता 1312 के मुकाबले 1273.00 हैं। गांधी सागर बांध पर 4.00 मिमी एंव कुल वर्षा 152.00 मिमी वर्षा हुई है। मध्यप्रदेश के इंदौर, रतलाम, महतपुर, मँहु, पाट, रामपुरा, मंदसौर, नीमच एंव उज्जैन में बारिश से बांध में हो रही 8 हजार 81 क्यूसेक पानी की आवक हो रही है।
वहीं बुंदी जिले का जवाहर सागर बांध कोटा डेम का जलस्तर अपनी पूर्ण भराव क्षमता 980 फीट के मुकाबले 974.10 फीट हो गया है। जवाहर सागर बांध पर 38 मिमी एंव कुल 283.30 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है। तथा जवाहर सागर बांध में 3 हजार 514 क्युसेक पानी की आवक हो रही हैं। जवाहर सागर बांध में पन बिजलीघर की मशीने चलाकर 3 हजार 514 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही हैं। वहीं कोटा जिले का कोटा बैराज 854 फीट क्षमता के मुकाबले 852.40 फीट पानी मौजुद है। तथा कोटा बैराज पर 1.40 मिमी वर्षा हुई है। अब तक यंहा 200.30 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है। तथा कोटा बैराज के 2 गेट खोलकर 4 हजार 996 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही है। कोटा बैराज की दाई नहर 20 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही हैं।
रावतभाटा उपखण्ड क्षेत्र के नगर एंव ग्रामीण अंचल में बुधवार से चल रही तेज झमाझम वर्षा से गुरूवार को क्षेत्र के कई नाले उफान पर चढ गए है। बेगूं, श्रीपुरा, लुहारिया, जावदा की पुलियाएं उफान पर रही। पाडाझर, लुहारिया नाला उफान रहा। जावदा क्षेत्र में गुंजाली, खोखी, पतलोई नदी में पानी की आवक थी, तेज बारिश के चलते नदी-नाले उफान पर रहे।