जनता के शांतिपूर्ण आंदोलनों में पुलिस के अनावश्यक हस्तक्षेप न करने के निर्देश देने हेतु जिला कलेक्टर को दिया ज्ञापन

कोटा– राष्ट्रीय स्तर पर बने हुए विभिन्न श्रमिक संगठनों के साझा मोर्चे अखिल भारतीय संयुक्त ट्रेड यूनियन मोर्चा ने लोकप्रिय किसान नेता एवं अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष दुलीचंद बोरदा और किसान कार्यकर्ताओं के साथ कल किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन में पुलिस द्वारा की गयी बदसलूकी और हाथापाई की पुरजोर शब्दों में निंदा करते हुए आज जिला कलेक्टर कोटा को ज्ञापन दिया ! ज्ञापन में कहा गया कि कर्ज में डूबे हाड़ोती के किसान लक्ष्य के मुताबिक सभी पंजीकृत किसानों के सम्पूर्ण लहसुन की खरीद किये जाने और अन्य समस्याओं के समाधान के लिए आंदोलन करते रहे हैं तथा जिला प्रशासन के माध्यम से विभिन्न मंत्रियों एवं मुख्यमंत्री से निराकरण की मांग उठाते रहे हैं ! ट्रेड यूनियन मोर्चे ने किसानों की न्यायोचित मांगों का समर्थन करते हुए सरकार से सकारात्मक रुख अपनाते हुए मांगों को मानकर समाधान और सहयोग की मांग की ! इसके साथ ही ज्ञापन में किसानों, श्रमिकों एवं जनता के अन्य संगठनों के शांतिपूर्ण आन्दोलनों में अनावश्यक पुलिस हस्तक्षेप रोकने , कल हुई घटना में शामिल पुलिस कर्मियों को चेतावनी देने और ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न होने देने के लिए पुलिस प्रशासन से आग्रह करने की मांग की !
ज्ञापन देने वाले प्रतिनिधि मंडल में हिन्द मज़दूर सभा के प्रांतीय महामंत्री मुकेश गालव, इंटक के जिलाध्यक्ष रामलाल गोचर, एटक के जिलाध्यक्ष हरिलाल, सीटू के जिला महामंत्री उमाशंकर, उपाध्यक्ष रवीन्द्र सिंह, आल इंडिया बैंक एम्पलॉयज असोसिएशन के जिला सचिव पदम् पाटौदी, राजस्थान सीटू के संभागीय मंत्री तारकेश्वर तिवारी और राजस्थान मेडिकल एंड सेल्स रिप्रेजेन्टेटिव यूनियन के प्रांतीय उपाध्यक्ष राकेश गालव शामिल थे