रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) आगामी फसल वर्ष 2018-19 के लिये अफीम नीति में किसानों के हितों को ध्यान रखा जाये एवं यह पॉलिसी सही समय पर जारी हो ताकि किसान अच्छी अफीम उत्पादन ले सके। उक्त बात सांसद सी.पी.जोशी ने कोटा में मंगलवार को नई अफीम पॉलिसी की तैयारी बैठक में कहें।
सांसद जोशी ने किसान हितैषी सुझाव रखते हुये कहा कि घटिया के कारण कटे हुये अफीम लाईसेंस बहाल किये जाये। 1998 से 2003 तक किसी भी श्रेणी में अफीम लाईसेंस बहाल नहीं हुये हो ऐसे किसानों को औसत में छूट देकर लाईसेंस प्रदान किये जाये। अफिम किसानों को जारी किये जाने वाले पट्टे में ‘‘नामों का शुद्धिकरण’’ जिला मुख्यालय पर विशेष केंप आयोजित करके किया जाये। अफीम के खरीद मूल्य में वृद्धि की जाये। न्यायालय द्वारा एन.डी.पी.एस. प्रकरणों में दोषमुक्त किये गये किसानों के अफीम लाईसेंस बहाल किये जाये। मारफिन की बजाय औसत को आधार रखते हुये अफिम लाईसेंस जारी किये जाये। वर्ष 2018-19 की अफीम पॉलिसी सितम्बर माह के अंत तक जारी की जाये जिससे अफीम की बुवाई उपयुक्त समय पर की जा सके। बैठक में डेयरी चैयरमैन बद्रीलाल जाट, पूर्व उप जिला प्रमुख मिठ्ठु लाल जाट, जिला महामंत्री बगदीराम धाकड़, मण्डल अध्यक्ष शम्भुलाल जाट, उप नारकोटिक्स आयुक्त सहीराम मीणा एवं विभागीय अधिकारीगण उपस्थित थे।