जमनालाल यादव (पत्रकार)

छबड़ा- छबड़ा मे चल रही श्रीमद् भागवत कथा में कथावाचक गोस्वामी दर्शन कुमार द्वारा श्रीकृष्ण के नामकरण एवं बाल लीलाओं का सजीव चित्रण करने पर श्रोतागण भाव-विभोर होकर कथा स्थल पर नृत्य करने को मजबुर हो गए।

कथा आयोजक संध्या माहेश्वरी एवं प्रवक्ता गोकुल सोनी ने बताया कि पालिका क्षेत्र के अम्बेड़कर सामुदायिक भवन मे चल रही श्रीमद् भागवत कथा में प्रतिदिन श्रद्धालु बढ़-चढ़कर भाग लेकर नृत्य संगीत के साथ आनंद उठा रहे हैं। श्रीमद् भागवत कथा के कथावाचक गोस्वामी दर्शन कुमार ने कहा कि अवतार काल मे भगवान स्वंय जीव का पोषण करते हैं, अनवतार दशा मे जीव की स्वयं ही जिम्मेदारी होती हैं। उसके लिए भक्ति करने एवं सत्संग मे जाने की कोई आवश्यकता नही होती हैं। जो भक्ति पूर्वक ईश्वर के नाम का जाप करता है एवं उनकी लीलाओ का गान करता है ईश्वर उसकी सारी तकलीफे दूर कर देता है भगवान को भक्ति से प्रसन्न किया जाता है वो तो भक्तो का दास है। एवं शनिवार को कथा के दौरान श्रीकृष्ण के नामकरण एवं बाल लीलाओं को सजीव वर्णन किया गया। जिस पर श्रोतागण भाव-विभोर हो गए और कथा स्थल पर नृत्य करने को मजबुर हो गए। एवं इस मौके पर गोवर्धन लीला के अंतर्गत अन्नकूट की झांकी भी सजाई गई साथ ही कथास्थल गिर्राज महाराज के जयकारो से गूंज गया।