रावतभाटाशिव सिंह चौहान (पत्रकार) मौसम का मिजाज शनिवार को कुछ बदला हुआ रहा, जंहा रावतभाटा उपखंड के आसपास के गांवो में जमकर मेघ बरसे, वहीं रावतभाटा नगर शनिवार को सूखा रहा। रावतभाटा नगर में धुपछांव वाली स्थिति बनी रही, दिनभर आकाश में कभी काले बादल छाए, तो कभी सूर्य देव के दर्शन हुए।
रावतभाटा उपखंड क्षेत्र के आसपास के गांवों में शनिवार को भी तेज मुसलाधार वर्षा का दौर जारी रहा। जबकि रावतभाटा नगर में शनिवार को दिनभर मौसम खुला रहा। ग्रामीण अंचल में सक्रिय हुए मानसून ने किसानों के चेहरों पर रंगत ला दी है। चारभुजा झालरबावड़ी मौसम विज्ञान विभाग वैधशाला प्रभारी ज्योति मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार को अधिकतम तापमान 33.8 व न्यूनतम तापमान 23.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। तथा शनिवार को प्रातः 8 बजे समाप्त हुई पिछले 24 घंटे में 20.8 एमएम वर्षा दर्ज की गई।
जलसंसाधन सिंचाई विभाग के नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार चंबल नदी पर बने राणाप्रताप सागर बांध का जलस्तर पूर्ण भराव क्षमता 1157.50 के मुकाबले 1138.37 फीट है। पिछले 24 घंटे में 23.20 एमएम वर्षा दर्ज की गई। 1 जून से अब तक यंहा 165.90 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है।
मध्यप्रदेश के गंाधीसागर बंाध की भराव क्षमता 1312 फीट के मुकाबले 1269.18 हैं। गांधी सागर बांध पर 7 मिमी एंव कुल वर्षा 47 मिमी वर्षा हुई है। वहीं बूंदी जिले का जवाहर सागर बांध कोटा डेम का जलस्तर अपनी पूर्ण भराव क्षमता 980 फीट के मुकाबले 972.70 फीट हो गया है। जवाहर सागर बांध पर 7.40 मिमी एंव कुल 111 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है। जवाहर सागर बांध में पन बिजलीघर की मशीने चलाकर 1 हजार 784 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही हैं। वहीं कोटा जिले का कोटा बैराज 854 फीट क्षमता के मुकाबले 850.50 फीट पानी मौजुद है। तथा कोटा बैराज पर 15.60 मिमी वर्षा हुई है। अब तक यंहा 115.60 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है। तथा कोटा बैराज के गेट खोलकर 4 हजार 900 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही है। कोटा बैराज की दाई नहर 20 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही हैं।