होटल सरस्वती में आयोजित बैठक में उपस्थित अधिकारी


कोटा – मौसमी बीमारियों से निपटने के लिए संभाग के चारों जिलों में अब तक क्या-क्या तैयारियां पूरी कर ली गई हैेेे इसे लेकर जयपुर से आए अतिरिक्त निदेशक ग्रामीण स्वास्थ्य डॉ रवि प्रकाश माथूर ने गुरूवार को नयापुरा स्थित एक होटल में अधिकारियों की बैठक लेकर समीक्षा की। बैठक में उनके साथ जयपुर से ही आए संयुक्त निदेशक (ग्रामीण स्वास्थ्य) डॉ सुनिल सिंह, उप निदेशक मलेरिया डॉ निर्मला शर्मा सहित जोन के संयुक्त निदेशक डॉ हेमन्द्र विजयवगीय एवं उप निदेशक डॉ एमपी सिंह समेत कोटा, बून्दी, बांरा, झालावाड के सीएमएचओ व डिप्टी सीएमएचओ (स्वास्थ्य) तथा एपिडेमियोलोजिस्ट, एन्टोमोलोजिस्ट एवं खाद्य सुरक्षा अधिकारी मौजूद थे। बैठक में डेंगू, मेलरिया, स्क्रब टाईफस, स्वाईन फ्लू, चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए किये जा रहे प्र्र्र्र्र्र्रयासों एवं तैयारियोेेे पर विस्तार से चर्चा की गई। अति.निदेशक (ग्रा.स्वा.) ने बताया की स्वाईन फ्लू, डेंगू एवं मलेरिया को नोटीफाई डीजीज घोषित किया गया है, जिसमें सभी निजि चिकित्सालयों एवं निजि लैब को रोग से सम्बंधित सभी जानकारी विभाग को देनी होगी। जानकारी छुपाये जाने पर उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जावेगी। उन्हानेे कोटा जिले में किये जा रहे रोकथाम संबधी कार्यो की प्रसंशा की गई एवं अन्य जिलो को भी कोटा में हो रहे कार्यो की तरह कार्य योजना बनाकर योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने एवं सभी निजी एवं सरकारी चिकित्सा संस्थानो एवं हॉस्टल में मच्छर रोधी पेस्ट कन्ट्रोल करवानेेेे केे निदेश दिए। उन्होने मौसमी बीमरियों में रोकथाम के लिए कोटा के कलक्टर द्वारा की जा रही अन्तर विभागीय समन्वय में भागीदारी की भी प्रसंशा की। बैठक में मेन पावर की समस्या के क्रम में विभाग द्वारा वीबीडी कन्सलटेन्ट एवं 6 वीबीडी सुपरवाईजर कोटा जिले को दिये जाने की बात कही। बैठक में श्रीमान् अति. निदेशक (ग्रा.स्वा.) ने डोमेस्टिक ब्रीडींग चैकर हेतु शिघ्र ही बजट देने के लिए आश्वस्त किया।
बैठक में कोटा सीएमएचओ डॉ आरके लवानिया ने धन्यवाद ज्ञापित किया।