रावतभाटा – शिव सिंह चौहान (पत्रकार) बारिश से पूर्व विद्युत निगम की ओर से उपभोक्ताओं को परेशानी नहीं हो इसके लिए लाइनों के मेंटेनेंस का कार्य किया जाता है, जिससे आंधी और बारिश के समय खराबी नहीं आए। इस बार भी निगम मेंटेनेंस के नाम पर हर इलाके में घंटों कटौती कर रहा है, लेकिन मेंटेनेंस के स्तर का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि थोड़ी बारिश और आंधी के बाद ही लाइनों में खराबी आ रही है। इसे ठीक करने में निगम के अमले को घंटो का समय लग रहा है। अभी तो बरसात का सीजन शुरू भी नहीं हुआ और यह स्थिति है। मानसून आने के बाद तेज बारिश और आंधी में क्या स्थिति होगी। क्षेत्रवासी फिर एक बार कटौती का कहर झेलने को मजबूर है। रखरखाव के नाम पर चल रही 6 से 8 घंटे की यह कटौती आए दिन नगर सहित उपखंड क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में की जा रही है। इसके साथ ही बिजली की आंख मिचैली भी लगातार जारी है। अघोषित कटौती ने लोगों की हालत खराब करके रख दी है।
पिछले एक माह में उपखंड मुख्यालय सहित क्षेत्रभर में कई ग्राम पंचायतों में बिजल कटौती हो चुकी है। आलम यह है कि उपखंड मुख्यालय पर कुछ क्षेत्रों में तो रख रखाव के नाम पर कई बार कटौती की जा चुकी है।