बिजली वितरण व्यवस्था में सुधार की भी दी चेतावनी

कोटा– राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव पंकज मेहता ने बयान जारी कर निजी बिजली कंपनी केईडीएल द्वारा एक दिहाड़ी बुजुर्ग मजदूर दंपत्ति को जारी किया 76 हजार 666 रूपये के बिल का विरोध करते हुए इसे कंपनी की घोर लापरवाही का उदाहरण बताया है। उन्होंने कहा कि कंपनी द्वारा जांच पड़ताल किये बिना बिल जारी किये जा रहे हैं,जिसका परिणाम यह है कि आए दिन कोटा शहर में अनियमित व भारी भरकम बिल विद्युत उपभोक्ताओं को मिल रहे हैं तथा कंपनी की तरफ से इस प्रकार की अनियमितता में कोई भी कार्यवाही न होने के कारण उपभोक्ता दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं, जिससे उन्हें मानसिक और आर्थिक नुकसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि जिस दंपत्ति का 76 हजार 666 रूपये का बिल आया है उसका कभी भी इतना बिल नहीं आया है,जबकि उसके घर में बिजली के नाम पर मात्र 60 वॉट का एक बल्व है,दंपत्ति केईडीएल से इस प्रकार प्रभावित है कि जो पंखा दंपत्ति कुछ समय पूर्व लाये हैं, उसे भी नहीं लगा रहे हैं, दंपत्ति को डर है कि जब मात्र 60 वॉट के बल्व से इतना बिल आता है तो पंखा लगाने से तो बिल की राशि भुगतान दुगुनी हो जाएगी। इससे यह प्रतीत होता है कि कंपनी के अधिकारी बिना बिलों की जांच पड़ताल किये बिना ही बिल जारी कर रहे हैं जो गलत व निराधार है तथा कंपनी को इस संदर्भ में शीघ्र कार्यवाही करते हुए अपनी कार्यप्रणाली में सुधार लाना चाहिए अन्यथा कंपनी के खिलाफ बड़ा जन आंदोलन किया जाएगा

पंकज मेहता ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से शहर में प्रतिदिन कई बार बिजली की आंख मिचौली चल रही है और बार-बार चेतावनी देने के बाद भी कंपनी इस व्यवस्था को नहीं संभाल पा रही है, उन्होंने कहा कि कंपनी द्वारा प्रतिदिन घंटों के शटडाउन लेने के बाद भी बिजली व्यवस्था नहीं सुधर पा रही है और इस भीषण गर्मी में आमजन परेशान हो रहा है, उन्होंने शीघ्र ही व्यवस्था सुधारने के लिए कंपनी को हिदायत दी।पंकज मेहता,महासचिव,प्रदेश कांगे्रस कमेटी