कोटा– सीमलिया थाने के हैड कांस्टेबल पर आरोप लगा कि उसने दूसरे पक्ष से समझौता करके जेल से आरोपी को बाहर निकाला और उसे अपने सरकारी क्वाटर लेजाकर पीछे से पकड़कर महिला का पेशाब पिलाया,इस मामले में माताजी का भीम पुरा निवासी जवाहरी लाल बागरी और उसकी पत्नी अफसरा बाई ने कोटा आईजी कार्यालय में हैड कांस्टेबल केदारलाल के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कराने का परिवाद सौंपा है, जवाहरी लाल ने मीडिया से कहा कि परिवार के आपसी लड़ाई-झगड़े में मोरपाल ने सीमलिया थाने में उसके विरुद्ध 107,151 में मामला दर्ज कराया था, जिसके बाद केदारलाल हैड कांस्टेबल ने उसे सीमलिया थाने में बंद कर दिया, वहीं थाने के बाहर केदार, मोरपाल और रूकमणी ने जवाहरी लाल की पत्नी से मारपीट की, यही नहीं मामला निपटाने के एवज में 20 हजार रुपए की मांग की, पुलिस हैंड कांस्टेबल की तानाशाही इतनी बढ़ी की उसने जवाहरीलाल को जेल से बाहर निकालकर अपने सरकारी क्वाटर पर लेजाकर पीछे से पकड़ा और रूकमणी से पेशाब लाने को कहा, साथ ही उसने जबरन रूकमणी से पिटाई करवाई और पेशाब पिलाया।