कोटा– सीमलिया थानान्तर्गत हुई चोरी के मामले में गिरफ्तार आरोपी अमित रोहिड़ा, कैलाश देवनानी, सरदार भगवान सिंह को मंगलवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट ने तीनों आरोपियों को 26 जून 2018 तक जेसी भेज दिया है। उल्लेखनीय है कि तीनों आरोपियो को पुलिस के द्वारा रविवार देर रात को घर से सोते हुए गिरफ्तार किया था। इसके बाद आरोपियों को सोमवार को ही जवाहर नगर स्थित न्यायिक मजिस्ट्रेट के आवास पटपड़ा हाऊस पर पेश किया था। जिस पर एक दिन का रिमाण्ड दिया गया था। इसके बाद फिर से मंगलवार को दीगोद कोर्ट में पेश किया गया। जहां से तीनों आरोपियों को 26 जून तक जेसी भेज दिया गया। वहीं, सह आरोपी चेतन रोहिड़ा और बाबूलाल के साथ अन्य 8-10 आरोपी अभी भी फरार हैं। जिनकी भी पुलिस गहनता से तलाश कर रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अनुसंधान अधिकारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) गोपाल सिंह कानावत के द्वारा आरोपियों को पकड़ने के लिए टीमें बनाई गई थीं। जिन्होंने देर रात दबिश देकर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों से 32 इमल्शन ड्रम, एक पानी का टैंकर और ट्रक जब्त कर लिया गया है। हालांकि, फरियादी बजरंगलाल राठौर के अनुसार, मुख्य आरोपी अमित रोहिड़ा व चेतन रोहिड़ा से केस में अहम सबूत वारदात में शामिल हथियार, जेसीबी, कार जब्त किया जाना शेष है। इस मामले में अभी भी वांछित अज्ञात 8-10 लोगों को भी नामजद किया जाना है। इस बारे में आरोपियों से पूछताछ किए जाने पर ही इनके नाम सामने आ सकते थे।मामले के अनुसार 2 जुलाई 2015 को अमित कन्स्ट्रक्शन के प्रोपाईटर अमित रोहिड़ा, चेतन रोहिड़ा, कैलाश, बाबूलाल, भगवान सिंह समेत अन्य 8-10 के खिलाफ ग्राम चींसा स्थित डामर प्लांट से चोरी और धमकाने का केस दर्ज कराया गया था। जिसकी जांच सीमलिया एसआई जगदीश प्रसाद, सीआईडी सीबी मुख्यालय कार्यालय जयपुर तथा रामगंजमण्डी डीएसपी शिवलाल बैरवा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) पवन जैन आरपीएस ने जांच में आरोंपियों पर दोष प्रमाणित करार दिया था। मामले में आरोपी अमित रोहिड़ा, चेतन रोहिड़ा, कैलाश देवनानी, बाबूलाल, भगवान सिंह सरदार के विरूद्ध धारा 379, 448, 120 बी का अपराध प्रमाणित मानते हुए गिरफ्तारी किया है।फरियादी की ओर से कोर्ट में पेश हुए वकील शिवप्रसाद शर्मा ने बताया कि आरोपी अमित रोहिड़ा के विरूद्ध अनन्तपुरा थाने में एफआईआर 20/2017 दर्ज है। इसके अलावा कनवास थाने में धारा 185 के तहत माइनिंग विभाग के द्वारा खनन चोरी का मामला दर्ज है। कनवास थाने में मुकदमा संख्या 124 व 125/2015 भी धारा 420 व धारा 3 के अन्तर्गत दर्ज है। इससे साफ जाहिर है कि आरोपी शातिर है। यह कईं वारदातों में शामिल रहा है।