बैठक में उपस्थित प्राइवेट अस्पताल व लैब संचालकों के प्रतिनिधी।

कोटा – मौसमी बीमारी खासकर मच्छर जनित डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया की रोकथाम में सहयोग के लिए बुधवार शाम को टेगोल हॉल में प्राइवेट अस्पतलों और लेब संचालकों की बैठक एडीएम सिटी सुनिता डागा की अध्यक्षता में हुई। इसमें शहर के अस्पताल एवं लैब संचालकों को अपने-अपने अस्पतालों एवं संस्थानों पर मच्छर रोधी पेस्ट कंट्रोल करवाने के निर्देश दिए गए। बैठक में सीएमएचओ डॉ आरके लवानिया ने बताया कि पिछले वर्ष कोटा शहर डेंगू से काफी प्राभावित रहा है। इसको ध्यान में रखते हुए इस साल जिला कलेक्टर के मार्गदर्शन से जनवरी से ही मौसमी बीमारियों के नियंत्रण के लिए कार्ययोजना बना ली गई। जिसमें चिकित्सा विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों की भी जिम्मेदारियां आवंटित कर कार्यवाही शुरू कर दी गई है। उन्होने अस्पताल संचालकों को निर्देश दिए कि वे अपने संस्थानों मे लगी पानी की टंकियो को नियमित रूप से चैक करने, उन्हे पूरी तरह से ढक कर रखने और सप्ताह मे एक बार लार्वा रोधी कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
एडीएम सुनिता डागा ने सभी चिकित्सा संस्थानों पर डेंगू से बचाव-उपचार संबधी जागरूकता के पोस्टर एवं बेनर प्रदर्शित करने, संस्थान पर लार्वा मुक्त संस्थान का बोर्ड लगाने तथा डेंगू कैसों की प्रतिदिन रिपोर्ट सीएमएचओ ऑफिस भिजवाने निर्देश दिए। वहीं निपाह वायरस के प्रति सतर्क रहने के भी निर्देश दिए गए।
बैठक में डिप्टी सीएमएचओ डॉ रामजी लाल वर्मा, एपीडेमिलोजिस्ट विनोद प्रभाकर सहित शहर के प्राइवेट अस्पतालों के प्रतिनिधी एवं लेब संचालक मौजूद थे।